Tuesday, 23 April 2013

336 % की बढ़ोतरी ,बच्चो पर बलात्कार मे - पार्ट 1

* बच्चो पर बलात्कार ... 336 % की बढ़ोतरी
* देश कर रहा है विकास
* ह्यूमन राइट्स ने दिये आंकड़े
* देश मे औरतों के साथ साथ नन्ही गुड़िया भी नहीं है सुरक्शित

* सरकार को सिर्फ मोदी ही दिखाई देते है ,जनता नहीं
                                       " सरकार ओर देश की मीडिया व्यस्त रहेती है " नरेंद्र मोदी ओर गुजरात " को गालियां देने मे ... देश मे चाहे कहीं पर बम धमाके हो या फिर हो बलात्कार जैसे मामले ....बात घूमा फिराकर आती है नरेंद्र मोदी पर ,सरकार को जनता के आक्रोश से बचाने के लिए मीडिया को नरेंद्र मोदी जैसा दूसरा कोई विकल्प ही दिखाई नहीं देता है ....देश चाहे बलात्कारियों का ही क्यू ना बन जाए ? "
* ह्यूमन राइट्स के मुताबिक 336% की बढ़ोतरी
                                           " ह्यूमन राइट्स के मुताबिक एक तरफ देश मे बच्चो पर बलात्कार के मामले मे 336% बढ़ावा हुवा है तो दूसरी तरफ सरकार बलात्कार के खिलाफ बेकार ...बेअसर कानून बनाकर सोई हुई नजर आ रही है ,रेकॉर्ड बता रहा है की 10 साल मे कुल 48,338 बच्चो पर बलात्कार हुवा है जो की 336 % की रफ्तार से बढ़ रहा है नीचे की तस्वीर देखिये की कौनसा राज्य ऐसे मामलो मे कहाँ है ? "

* विकास का मतलब ये नहीं है ?
                                   " कॉंग्रेस सरकार ने शायद विकास का मतलब ही उल्टा निकाला है घोटाले ,सेक्स,बलात्कार,महेंगाइ,गिरती जीडीपी की दरे ,विदेश के अखबार भी यही कहते है तो क्या इसिकों विकास कहते है ....साफ़सुथरा शासन कहते है ? कुछ दिन पूर्व ही दिल्ली फर्श बाजार मे रहनेवली एक 13 वर्षीय बच्ची पर 8 लोगोने हैवानियत भरा बलात्कार किया था ,16 तारीख को केस दाखिल हुवा है मगर अब तक केवल 2 लोगो को ही पुलिस पकड़ सकी है जबकि 12 अप्रैल को लड़कीवालोंने ये केस धारा 164 के तहत दर्ज करने की कोशिश की थी ....| "

* पूरा देश रोया था ,सरकार ने बहाये घड़ियाली आँसू
                                      " अभी कुछ दिन पूर्व ही दिल्ली मे घटी बस मे बलात्कार की घटना मे पूरा देश रोया था मगर इस देश की सरकार सिर्फ आतंकी के मौत पर ही आँसू बहा सकती है ...इस देश की बहन ,बेटी या बहू की इज्जत लुटने पर नहीं रो सकती है ...ओर ना ही उन बेटीयो के मौत पर रो सकती है जिनहोने अपनी इज्जत गवाई हो ...... आज चर्चा का विषय बना है सरकार के द्वारा बनाया गया नया बलात्कार विरोधी कानून जो महज एक कानून बनकर रहे गया है जिसके बनने से लागू होने से कोई भी फर्क नहीं पड़ा है |"

* किसी की बेटी होना पाप है इस देश मे ?
                                   " घोटालो से फुर्सत मिले तो ये सरकार बहन ,बेटियो की रक्षा कर सकेगी ना ? भाई फुर्सत ही नहीं मिल रही है पूरा देश जानता है की ये सरकार ने घोटाले की पूरी "एबीसीडी "खत्म कर दी है भाई ऐसे मे फुर्सत कब मिलेगी ? शायद इस देश मे अब किसी की बेटी होना पाप बन गया है ....यही सवाल आज देश की हर बेटी के मन मे उठ रहा होगा ....इस मे कोई संदेह नहीं है | "

* बलात्कारियों का देश भारत
                              " अगर ऐसा ही सिलसिला चलता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब भारत देश को पूरी दुनिया बलात्कारियों का देश के नाम से जानेगी क्यू की इस देश मे rape अब सरकार के लिए एक रोज की बात बन गई है ओर देश की मीडिया के लिए पहले पन्ने की हेडलाइनवाली खबर बन जाती है मगर सरकार ओर देश की मीडिया इस बात से अंजान है की बलात्कार पीड़ित लड़की ओर उसके परिवारवालों पर क्या गुजरती होगी ? "

:::
: